• Abhishek

Main Aag Lagane Ka Shauk



मैं आग लगाने का शौक बिल्कुल भी नहीं रखता,

अब मेरे नाम से भी लोग जलें तो मैं क्या करूँ.


Main aag lagane ka shauk bilkul bhi nahi rakhta,

ab mere naam se bhi log jalen to main kya karun.



दिल से लोग मुझे लगाकर रखते हैं,

और ये प्यार दौलत से नहीं खरीदी जा सकती.

Dil se log mujhe lagakar rakhte hain,

aur ye pyar daulat se nahi kharidi ja sakti.

297 views

Related Posts

See All

Muskurane ka Man Kar Raha Hai

आज फिर मुस्कुराने का मन कर रहा है, बिना आग के ही लोगों को जलाने का मन कर रहा है! Aaj fir muskurane ka man kar raha hai, bina aag ke hi logon ko jalane ka man kar raha hai ! मैं जैसा भी हूँ ठीक हूँ, क्

Jaan Par Kyon Na Ban Aayi Ho

जान पर क्यों न बन आयी हो, पर जब झुकना नहीं आता तो झुके कैसे. Jaan par kyon na ban aayi ho, par jab jhukna nahi aata to jhuke kaise. जानना हो अगर हमारे बारे में, तो हमारे चाहने वालों से एक बार मिल लेना

Lehron Mein Khelna Aadat Hai

लहरों में खेलना आदत है हमारी, पर प्यार के समुन्दर में तैरने पहली बार जा रहे हैं. Lehron mein khelna aadat hai hamari, par pyar ke samundar mein tairne pehli baar ja rahe hain. हम क्या है हमसे भी बुरे

Shayari Categories

Status Categories 

Follow Us
  • Facebook Basic Square
  • Instagram Social Icon
  • Pinterest Social Icon
  • Twitter Basic Square
  • Google+ Basic Square