Search
  • Abhishek

Dil Ki Zameen Par Kahin To Zakhm


दिल की ज़मीं पर कहीं तो ज़ख्म हुआ है क्योंकि,

सीने में दर्द होता है इसका आज मुझे पता चला,

एक भरम था मुझे कहीं न कहीं की वो अलग है सबसे पर,

उसके लिए मुझको भूलना कितना आसान है ये आज मुझे पता चला।


Dil ke zameen par kahin to zakhm hua hai kyonki,

seene mein dard hota hai iska aaj mujhe pata chala,

ek bharam tha mujhe kahin na kahin ki wo alag hai sabse par,

uske liye mujhko bhulna kitna aasan hai ye aaj mujhe pata chala.


#ZakhmShayari

117 views

Related Posts

See All

Sapne Mein Aati Hai Jab Wo

सपने में आती है जब वो पगली, तो जुबान पर दुआओं की सौगात आती है, याद को याद ही नहीं रहते उस ज़ालिम के सितम, जब रूह को उसकी मोहब्बत की झलक भर याद आती है। Sapne mein aati hai jab wo pagli, to jubaan par du

Bhulana Chahun Tumhe Jitna Utna

भुलाना चाहुँ तुम्हे जितना उतना आँखों में उतरती जाती हो, दूर जाकर भी तुम मेरे धड़कन में समाती जाती हो, क्या है क्यों है कैसे है इतनी मोहब्बत तुमसे हमे की, जितना उतारूं तुम्हे तुम उतना दिल में बढ़ती जाती

Shayari Categories  

Status Categories 

Follow Us
  • Facebook Basic Square
  • Instagram Social Icon
  • Pinterest Social Icon
  • Twitter Basic Square
  • Google+ Basic Square
Magicalshayari.com Copyright © 2021, All Rights Reserved.
Latest Best Shayari in Hindi, Love, Sad, All Category Shayari, SMS Messages, Status, Quotes in Hindi.
DMCA.com Protection Status